अफसरों को अब मिलेगा इनाम नशीली दवाओं, मादक पदार्थों को पकड़ने वालो के लिए सरकार ने रखी ज्यादा रकम

नई दिल्ली : अब नहीं होगा नकली और नशीली दवाओं का कारोबार , सरकार ने नशीली दवाओं, मादक पदार्थों को पकड़ने वाले अफसरों और इस कार्य में सहयोग करने वाले मुखबिरों और अन्‍य सहयोगियों को ज्‍यादा इनाम देने का निर्णय लिया है। सरकार ने नई गाइडलाइन जारी कर दी है जिससे  नशीली दवाओं मादक पदार्थों जल्दी पकड़ में आये और यही नहीं इनाम देने के तरीके में भी बदलाव किया गया।

 

नीति के मुताबिक अधिकारी को अब एक बार में अधिकतम 50 हजार रुपये का इनाम मिल सकता है और बाद मे अपने पूरे करियर के दौरान वह इस तरह से अधिकतम 20 लाख रुपये इनाम का ही हकदार होगा। हालांकि ,अन्‍य अफसरों लोगों को भी अब एक बार में अधिकतम 2 लाख रुपये का इनाम दिया जा सकता है। लेकिन यह सेंट्रल रिवॉर्ड्स कमेटी की जांच के बाद ही इस पर मुहर लगेगी।

पॉलिसी के अनुसार इनाम की 50 फीसदी राशि मामला चलने के पहले ही दी जात सकती है, लेकिन इसके लिए केमिकल लैब का रिजल्‍ट पॉजिटिव होना चाहिए।

गृह मंत्रालय द्वारा जारी बयान के अनुसार,मुखबिर को इनाम देने से पहले इनाम मंजूर करने वाली अथॉरिटी को तथ्‍यों की पड़ताल करनी होगी फिर जांच के बाद सूचना कितनी सही है, इसमें कितना जोखिम जुडा है और मुखबिर से किस हद तक मदद मिली है। इसके मुताबिक ही इनाम दिया जाने का जानकारी दिया है इसके लिए सरकार ने शीर्ष एजेंसी नार्कोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो को बनाया गया है।जिससे हमे नशीली दवाओं, मादक पदार्थों पकड़ ने मदत करेगा।