पंचकूला हिंसा: सिरसा डेरे पर छापामरी गायब हो गयी विपश्यना इंसान, तलाश जारी

गुरमीत बाबा राम रहीम के डेरे की चेयरपर्सन विपश्यना इंसान के खिलाफ पंचकूला हिंसा के मामले में पंचकूला के डीसीपी मनवीर सिंह ने गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है। साध्वी रेप केस में रोहतक की सुनारिया जेल में 20 साल की सजा भुगत रहे राम रहीम के डेरे की चेयरपर्सन विपश्यना इंसान गायब हो गई है. उसकी तलाश में डेरे पर पुलिस ने दो बार छापेमारी की है, लेकिन उनका कुछ पता नहीं चला है. पुलिस ने उसके खिलाफ अरेस्ट वारंट इशू कराया है. उसके खिलाफ चार बार समन जारी हुआ, लेकिन वह एक बार पेश हुई थी.

खबरों के मुताबिक, इससे पहले सिरसा डेरे पर डीसीपी के साथ एसआईटी पहुंची थी। डेरे की तलाश ली गई थी, लेकिन विपश्यना इंसान का कुछ नहीं पता चला, आशंका है कि उसे पुलिस के आने की सूचना मिल गई होगी। इसलिए उनके आने से पहले ही वह वहां से चली गई, एसआईटी ने उस कमरे का भी निरीक्षण किया था, जहां पंचकूला हिंसा के लिए हनीप्रीत ने मीटिंग बुलाई थी।

जानकारी के मुताबिक, इस छापेमारी के दौरान पंचकूला के डीसीपी मनबीर सिंह, एसआईटी इंचार्ज मुकेश मल्होत्रा समेत एसआईटी टीम के सदस्य मौजूद रहे थे. इसके साथ ही रविवार को राम रहीम के दाहीने हाथ माने जाने वाले डॉ. महिंदर इंसान को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. वह डेरे में छिपा हुआ बैठा था. उस पर डेरे में अनुयायियों को खुद ऑपरेशन कर नपुंसक बनाने का आरोप है.सूत्रों के अनुसार, डॉ. महिंदर इंसान डेरा के प्रवक्ता आदित्य इंसान के संपर्क में था. उसे आदित्य के इस समय इस्तेमाल होने वाले नए मोबाइल नंबर का भी पता है. एसआईटी पिछले साल 25 अगस्त के बाद से देशद्रोह के मामले में जांच कर रही है. इसमें कुछ ही दिनों बाद डॉ. महिंदर इंसान का नाम भी सामने गया था.

आपको बताते चलें कि राम रहीम के पूर्व ड्राइवर खट्टा सिंह ने खुलासा किया था कि राम रहीम के आश्रम में महिलाओं का सिर्फ यौन शोषण ही नहीं बल्कि साधुओं को नपुंसक बनाया जाता है.उन्होंने कहा कि डेरा प्रमुख के इशारे पर डेरा अस्पताल के डॉक्टरों की टीम साधुओं को नपुंसक बनाती हैं. उन्होंने 166 साधुओं का नाम भी बताया था. हंसराज ने कहा था कि राम रहीम के आश्रम में प्रार्थना के बाद नशे का कैप्सूल दिया जाता था. इसके बाद उसके साथ क्या होता, उसे भी मालूम नहीं होता था.