आधार का डेटा सेफ करेगी सरकार, 12 अंकों की जगह 16 नंबर की वर्चुअल आईडी का प्लान

नई दिल्ली: भारत में पिछले कई दिनों से आधार कार्ड के नंबर लिक होने की खबरे आ रही है, आधार डाटा लीक होने की खबरों के बीच सरकार इसकी सुरक्षा के लिए पुख्ता इंतजाम करने की तैयारी में जुट गई है. इसके लिए यूआईडीएआईए हर आधार कार्ड की एक वर्चुअल आईडी तैयार करने की सुविधा ला रही है. इससे आपको जब भी अपने आधार डिटेल कहीं देने की जरूरत पड़ेगी, तो आपको 12 अंकों के आधार नंबर की बजाय 16 नंबर की वर्चुअल आईडी देना होगा।

बता दे यूआईडीएआई के मुताबिक यह सीमित केवाईसी होगी. इससे संबंध‍ित एजेंसियों को भी आधार डिटेल की एक्सेस नहीं होगी. ये एजेंसियां भी सिर्फ वर्चुअल आईडी के आधार पर सब काम निपटा सकेंगे. इससे आधार की सुरक्षा बढ़ने की उम्मीद है, इसके साथ ही यूआईडीएआई ये सुविधा भी देगा कि आप खुद अपना वर्चुअल आईडी जनरेट कर सकें. इस तरह आप अपनी मर्जी का एक नंबर चुनकर सामने वाली एजेंसी को सौंप सकते हैं, इससे आपकी आधार डिटेल सुरक्ष‍ित रहेंगी और आप अपने मोबाइल नंबर की तरह इस आईडी को भी आसानी से याद रख सकेंगे।

वर्चुअल आईडी की व्यवस्था आने के बाद हर एजेंसी आधार वेरीफिकेशन के काम को आसानी से कर सकेंगी, सबसे अच्छी बात यह होगी कि वह आपके आधार नंबर तक तो नहीं पहुंच पाएंगे, लेक‍िन इससे जुड़ा  हर काम पूरा कर सकेंगे, इसके साथ ही यूआईडीएआई सभी एजेंसियों को दो श्रेण‍ियों में बांट देगी. इसमें एक स्थानीय और दूसरी वैश्व‍िक श्रेणी होगी. एजेंसियों को उनके काम के हिसाब से इन श्रेण‍ियों में शामिल किया जाएगा, सूत्रों के मुताबिक यूआईडीएआई हर आधार नंबर के लिए एक टोकन जारी करेगी, इस टोकन की बदौलत ही एजेंसियां आधार डिटेल को वेरीफाई कर सकेंगे,  साथ ही  यह टोकन नंबर हर आधार नंबर के लिए अलग होगा।