कमला मिल्स हादसा: फरार आरोपी कृपेश और जिगर सांघवी के बाद अभिजीत भी गिरफ्तार

मुम्बई में 29 दिसंबर को कमला मिल्स में हुए अग्निकांड के सिलसिले में पुलिस ने ‘1 Above’ पब के मालिकों कृपेश सांघवी और जिगर सांघवी के बाद तीसरे आरोपी अभिजीत मंकार को भी गिरफ्तार कर लिया है। अभिजीत कई दिनों से फरार चल रहा था। सांघवी ब्रदर्स से पूछताछ के बाद पुलिस ने अभिजीत को धरा। तीनों से पूछताछ की जा रही है।

आपको बता दे, इसी के साथ 1 एवब पब के मालिक सांघवी बंधु और अभिजीत मंकार को कथित रूप से शरण देने के लिए एक होटल विशाल कारिया को मंगलवार को गिरफ्तार किया गया था। इन तीनों पर गैर इरादतन हत्या और दूसरी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। बता दें कि  अभिजीत मंकार अब भी फरार है। अभिजीत के अलावा मोजो रेस्त्रां के मालिक युग तुली भी फरार हैं। पुलिस इन लोगों की खोज कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, पुलिस तीनों आरोपियों को आज शाम 3 बजे कोर्ट में पेश कर इनके रिमांड की मांग करेगी. सांघवी ब्रदर्स और अभिजीत मनकर को शरण देने के आरोप में एक होटल मालिक विशाल करिया को पुलिस ने मंगलवार को गिरफ्तार किया था. इन तीनों पर गैर इरादतन हत्या और दूसरी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है. पुलिस उपायुक्त वीरेंद्र मिश्रा ने बताया कि इस घटना के बाद से फरार चल रहे सांघवी ब्रदर्स को विशाल करिया से कड़ी पूछताछ के बाद उसकी निशानदेही पर बांद्रा इलाके में गिरफ्तार किया गया है. पुलिस फरार आरोपियों के पीछे भी लगी हैं. वो भी बहुत जल्द पुलिस की गिरफ्त में होंगे. सांघवी ब्रदर्स और मनकर 29 दिसंबर से थे.

खबरों के मुताबिक, इस घटना के बाद फरार एक आरोपी युग टुली को हैदराबाद में देखा गया है. युग टुली हैदराबाद एयरपोर्ट पर अपनी पत्नी के साथ सीसीटीवी में नजर आया. टुली मोजो पब के मालिकों में से एक है और उसने कोर्ट में अग्रिम जमानत की अर्जी दे रखी है. बताया जा रहा है कि वह नागपुर से कार के जरिए हैदराबाद पहुंचा था. मुंबई पुलिस अधिकारियों ने एयरपोर्ट के रिकॉर्ड चेक कर बताया है कि फिलहाल युग टुली के देश से बाहर जाने के सबूत नहीं मिले हैं. वहीं मोजो पब का एक और मालिक युग पाठक सरेंडर कर चुका है. 29 दिसंबर को हुए पब अग्निकांड में 14 लोगों की मौत हो गई थी. इस मामले में मोजो पब के मालिकों को आरोपी बनाया गया है.

आपको बता दे, रिपोर्ट के अनुसार दोनों को शरण देने वाले विकास कारिया से पूछताछ के दौरान पता चला कि सिंघवी बदर्स वकील से मिलने आने वाले हैं। पुलिस ने दोनों को पकड़ने के लिए पूरा प्लान बनाया। पुलिस ने फिर जाल बिछाकर दोनों भाइयों को धर दबोचा। पुलिस दोनों भाइयों की तलाश 2 जनवरी से कर रही थी, तब से ये दोनों फरार थे और पुलिस ने इनके ठिकानों को पता लगाने के लिए 1 लाख रुपये का इनाम भी रखा था।