मां की संपत्ति को लेकर निरूपा रॉय के बेटों के बीच दीवार, पुलिस तक पहुंचा मामला

यश चोपड़ा निर्देशित फिल्म दीवार में दो बेटे अपनी मां के लिए आपस में झगड़ते हैं, क्योंकि दोनों अपने साथ मां को रखना चाहते थे। इस फिल्म में मां की भूमिका निभाने वाली दिवंगत अभिनेत्री निरुपा रॉय के दो बेटे इस बात के लिए आपस में भिड़ रहे हैं कि मां के फ्लैट का मालिकाना हक किसको मिले। दोनों के बीच टकराव इतना बढ़ गया है कि सगे भाइयों के बीच हाथापाई तक हो गई। हिंदी फिल्मों में 1970 के दशक में ‘मां’ के किरदार के लिए प्रसिद्धि पाने वाली दिवंगत निरूपा रॉय के दो बेटों के बीच उनकी संपत्ति को लेकर चल रहा विवाद पारिवारिक झगड़े के रूप में बढ़ गया है और पुलिस तक पहुंच गया है. निरूपा रॉय के 45 वर्षीय बेटे किरन ने सोमवार देर रात को पुलिस को फोन करके अपने बड़े भाई योगेश के बच्चों के शोर मचाने की शिकायत की थी. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया कि इसके बाद किरन और उनके भाई के बीच मां की मालाबार हिल की संपत्ति को लेकर नोकझोंक हो गई. अधिकारी ने बताया कि इस संबंध में कोई मामला दर्ज नहीं कराया गया है. उन्होंने बताया कि दोनों भाइयों के बीच हुई बहस ने छोटी सी लड़ाई का रूप ले लिया.

 आपको बता दे, मुंबई के पॉश इलाके माने जाने वाले नेपियन सी रोड इलाके में निरुपा रॉय का एक फ्लैट है। इसे लेकर उनके दोनों बेटे अपनी दावेदारी कर रहे हैं। बाजार में इस चार बेडरूम वाले फ्लैट की कीमत 100 करोड़ रुपये के आसपास आंकी गई है। ग्राउंड फ्लोर वाले इस फ्लैट के साथ ही एक बड़ा गार्डन एरिया भी है, जो 8000 स्क्वायर फीट में फैला है। इस संपत्ति को लेकर निरुपा रॉय के बड़े योगेश और छोटे बेटे किरण के बीच विवाद चल रहा है। 2004 में निरुपा रॉय के निधन के बाद इस फ्लैट का मालिकाना हक उनके पति कमल रॉय को मिला। 2015 में कमल रॉय के निधन के बाद दोनों बेटों ने इस फ्लैट पर दावा किया और यह मामला मुंबई हाईकोर्ट पहुंचा। हाईकोर्ट ने अंतिम फैसला होने तक संपत्ति पर दोनों भाइयों के दावे को स्वीकार किया और दोनों को अलग-अलग तौर पर इस फ्लैट में रहने का आदेश दिया। आदेश में कहा गया कि गार्डन और रसोई पर दोनों का बराबरी का अधिकार रहेगा, जबकि चार बेडरूम में से दो-दो दोनों भाइयों के पास रहेंगे।

पुलिस के मुताबिक किरन का आरोप है कि योगेश अपार्टमेंट के उस हिस्से में घुस आया जहां किरन का परिवार रहता है और उसने घर की खिड़कियों के कांच तोड़ने के साथ गाली-गलौच शुरू कर दी. पुलिस ने कहा कि एंबेसी अपार्टमेंट में निरूपा रॉय के फ्लैट को लेकर दोनों भाइयों के बीच लंबे समय से विवाद है. निरूपा ने 1963 में 10 लाख रुपये से कम कीमत में यह फ्लैट खरीदा था. इस अपार्टमेंट में दोनों भाइयों के पास दो-दो बेडरूम हैं. 3000 वर्ग फुट से अधिक जगह में फैले अपार्टमेंट के साथ 8000 वर्गफुट का एक बगीचा भी है.

खबरों के मुताबिक, मंगलवार रात यह विवाद तब फिर सामने आया, जब किरण ने पुलिस को फोन कर बताया कि योगेश ने शराब के नशे में उनके और उनके परिवार के साथ मारपीट की। किरण का दावा है कि योगेश खिड़कियों के शीशे तोडऩे लगे और रोके जाने पर उनके साथ मारपीट की। पुलिस ने वहां लगे सीसीटीवी कैमरे की फुटेज कब्जे में लेकर जांच शुरू कर दी है। उधर, योगेश ने मारपीट के आरोपों से इन्कार किया। उनका कहना था कि उनको सिर्फ इस बात पर गुस्सा आया कि फ्लैट की सारी लाइटें और एसी ऑन रखे गए थे, क्योंकि बिजली का बिल वे भरते हैं। पुलिस का कहना है कि उसने शिकायत दर्ज कर दोनों भाइयों को बातचीत से मामला सुलझाने को कहा है।