गाजियाबाद: स्कूल में 8 साल के मासूम स्टूडेंट की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत

गाजियाबाद आये दिन एक के बाद एक घटना सामने आ रही है.ऐसे ही, गाज़ियाबाद में टीचर्स की बेरहमी और अमानवीयता का सन्न कर देने वाला मामला सामने आया है.यूं तो टीचर्स पर स्टूडेंट्स को शारीरिक दंड देना प्रतिबंधित है, लेकिन आए दिन टीचर्स द्वारा स्टूडेंट्स की पिटाई का मामला सामने आता रहता है. लेकिन गाजियाबाद में 8 साल के एक मासूम स्टूडेंट के साथ बेरहमी और अमानवीयता की सारी हदें पार कर दी गईं.हम तो ये सोच के हैरान है की अभी तक सरकार इसको लेके कोई नियम क्यों नहीं बना रही है.

खबरों के मुताबिक, दरअसल गाजियाबाद के लोनी इलाके में स्थित जेडी शास्त्री स्कूल में LKG में पढ़ने वाले एक मासूम स्टूडेंट की स्कूल में ही संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई. एक तरफ जहां स्कूल बच्चे की मौत के पीछे ठंड को वजह बता रहा है, वहीं परिजनों का आरोप है कि अत्यधिक पिटाई के चलते उनके बच्चे की मौत हुई है.आरोप है कि स्कूल में एक टीचर ने बच्चे की पिटाई की, जिससे उसकी स्थिति खराब हो गई. तबीयत बिगड़ने पर बच्चे को अस्पताल ले जाया गया, जहां उसकी मौत हो गई. दिल्ली एनसीआर एक अधिकांश स्कूलों में तेज सर्दी के चलते छुट्टियां घोषित हैं.

आपो बता दे, पुलिस ने सूचना मिलते ही बच्चे के शव का पोस्टमार्टम करवाया और आगे की जांच में लग गई है. इसके बाद शव परिजनों को सौंप दिया गया और परिजनों ने अंतिम संस्कार करते हुए शव को दफना दिया है. हालांकि कब्र से निकालकर शव का दोबारा पोस्टमार्टम करवाए जाने की मांग भी हो रही है. मृतक मासूम कातिब गाजियाबाद के लोनी इलाके में जेडी शास्त्री पब्लिक स्कूल में LKG का छात्र था. बीते बुधवार को कातिब स्कूल गया था, लेकिन वापस नहीं आया. परिवार वालों को सीधे उसका शव सौंपा गया. परिजनों का कहना है कि बच्चा सही सलामत स्कूल गया था. कुछ देर बाद स्कूल से फोन पर उन्हें बच्चे को अस्पताल ले जाने की सूचना दी गई.

जानकारी के मुताबिक, परिवार का कहना है उन्हें स्कूल ने घटना की सूचना देरी से दी. धर्मपाल अस्पताल से स्कूल वाले बच्चे को एम्बुलेंस से न ले जाकर बाइक से जीटीबी अस्पताल ले गए. स्कूल की दूसरी बड़ी लापरवाही भी सामने आई है. गाजियाबाद डीएम ने आदेश जारी किया है कि 14 जनवरी तक ठंड की वजह से स्कूल बंद रखे जाएं. उसके बावजूद स्कूल खुला हुआ था.वहीं स्कूल इन आरोपों से इनकार करते हुए कह रहा है कि स्कूल सिर्फ स्टाफ के लिए खुला हुआ था. लोनी थाने के CO दुर्गेश कुमार का कहना है कि बच्चे का पोस्टमार्टम हो चुका है और जांच चल रही है. वहीं लोनी के SDM ने मृतक बच्चे के परिवार से मुलाकात करने के बाद कहा कि प्रथम दृष्टया स्कूल की गलती सामने आ रही है. आपको बता दे,छोटी छोटी गलती को स्कूल नज़र- अन्दाज कर रहे हैं.