ब्रिटेन: सिगरेट न दिया त्यों भारतीय मूल के दुकानदार पर किया हमला, पीट-पीट कर हत्या

जीवन में पहली बार सिगरेट पीने की कोशिश करने वाले दो-तिहाई से अधिक लोगों ने कम से कम कुछ दिनों के लिए ही सही रोजाना सिगरेट पीना शुरू कर दिया. आपको बात दे, हमारे देश से बहुत लोग प्रदेश में रहते है अपने परिवार के लिए.ऐसे में ये एक दर्दनाक घटना माना गया है.भारतीय मूल के एक दुकानदार की उत्तरी लंदन में पीट कर हत्या कर दी गई. दुकानदार ने ब्रिटेन के एक किशोर को कम उम्र के होने की वजह से सिगरेट देने से मना कर दिया था, जिसके बाद उसने पटेल पर हमला कर दिया. विजय पटेल पर शहर के मिल हिल क्षेत्र में शनिवार की रात को हमला हुआ. उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया लेकिन सोमवार को उनकी चोट की वजह से मौत हो गई.

जानकारी के मुताबिक, पटेल के परिवार वालों ने अस्पताल से उनकी तस्वीर इस हमले में शामिल आरोपी को पकड़ने की अपील के साथ जारी की है. 16 वर्षीय एक लड़के को आज इस संबंध में अदालत में पेश किया गया है. साल 2006 में पटेल अपने परिवार और पत्नी विभा के साथ लंदन आ गए थे. पटेल के दोस्तों ने उन्हें ईमानदार और मेहनती व्यक्ति बताया है.पटेल के परिवार के सदस्यों की मदद करने को धन इकट्ठा करने के लिए ऑनलाइन पेज चलाया जा रहा है और अब तक लगभग 13 लाख रुपये जुटा लिए गए हैं.

आपको बता दे, लंदन की क्वीन मेरी यूनीवर्सिटी के प्रोफेसर पीटर हाजेक ने बताया, ‘हमने पाया कि पहली बार धूम्रपान करने वालों से रोजाना धूम्रपान करने वालों में तब्दील होने की दर आश्चचर्यजन ढंग से अधिक है जो सिगरेट के पहली बार प्रयोग को रोकने के महत्व की पुष्टि करता है.’ उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में भी चकाचौंध भरा परिवेश युवतियों व महिलाओं के जीवन पर बुरा प्रभाव डाल रहा है. शौकिया धूम्रपान का शुरू हुआ सिलसिला अब लत में तब्दील हो रहा है. ग्लोबल एडल्ट टोबैको सर्वे में 15 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों पर हुए सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है कि उप्र की हर छठी महिला धूम्रपान कर रही है.

आपको बताते चले, वर्ल्ड हेल्थ केयर ने बताया उन्होंने बताया, "गेट्स-2 सर्वे की रिपोर्ट में 15 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों को शामिल किया गया था. केंद्रीय परिवार कल्याण विभाग, डब्लूएचओ व टाटा इंस्टीट्यूट अफ सोशल साइंसेज मुंबई द्वारा मल्टी स्टेज सैंपल डिजाइन तैयार किया गया. इसमें देशभर से कुल 74,037 लोगों को व यूपी से 1,685 पुरुष व 1,779 महिलाओं को शामिल किया गया था." रिपोर्ट के मुताबिक, रिपोर्ट के मुताबिक, हर छठी महिला तंबाकू का किसी न किसी स्वरूप में सेवन कर रही है.