VIDEO : गुजरात के खेड़ा जिले में नाएका और भेराई के बच्चों को स्कूल जाना नहीं है आसान, ऐसे जाते है बच्चे

नई दिल्ली: हम सभी के लिए स्कूल जाने वाला रास्ता आसान होगा। लेकिन एक ऐसी जगह जहां के बच्चे हर दिन स्कूल जाते वक्त अपनी जान हथेली पर रखकर घर से निकलते हैं। जी हां यहां के बच्चों के लिए स्कूल का रास्ता पार करना आसान नहीं है। इन्हें गुजरात के खेड़ा जिले में नाएका और भेराई के बच्चों को स्कूल जाने के लिए जान हथेली पर रखनी पड़ रही है।

जानकारी के मुताबिक, ऐसे इस लिए क्यों की, दोनों  गांवों को जोड़ने वाला पुल नाएका और भेराई गांव को जोड़ने वाला पुल लगभग दो महीने से टूटा हुआ है। इस कारण खेड़ा जिले में नाएका और भेराई के बच्चों को स्कूल जाने के लिए बच्चे को सहारा देने वाले पिलर्स पर कूद-कूदकर स्कूल जाने को मजबूर हैं।

खास बात यह है की, गुजरात के खेड़ा जिले में नाएका और भेराई के गांव को जोड़ने के लिए एक ही पुल का रास्ता है। मगर, यह पुल पिछले दो महीनों से यह पुल टूटा पड़ा है। आप को बता दे, जिस वजह से बच्चों को स्कूल जाने में काफी हद तक परेशानी हो रही है।

खबर मिली है की, यह एक ही मात्रा रास्ता है स्कूल के जिससे बच्चे आराम से पहुंच सकते है। अगर यह बच्चे यह पिल्लर्स का सहारा नहीं लेंगे तो सभी गांव के बच्चे को 10 किलोमीटर घूमकर स्कूल जाना पड़ेगा। जोह की हर छोटे बच्चे के लिए संभव नहीं है। लंबा चक्कर लगाने की बजाय नाले और पिलर्स के सहारे ही सभी बच्चे स्कूल जा रहे है।